HARI OM SAI RAM  ,

TRATAK SE DHYAN KI ORR

According to Yog Shastra, there are seven chakras present in our body in the form of bunches of nerves. It all depends on us whether we want to keep them in a dormant state or activate them and improve our lives with the benefits arising out of this activation. This applies to each and every person. Those who do sadhnas know how significant these chakras are in each person’s spiritual life.

Though each chakra has its own importance, Aagya Chakra situated between the eyes has a lot to do with our spiritual life. This is because it is located exactly in between our eyes where the third eye is present. How much concentration you have during sadhna or whether you are getting deviated, it all starts from here. But if you remember, we learnt a very abstruse fact in the article related to the mind that:

“If we have to save ourselves from illusion then we should abandon all the benefits and losses arising out of illusion.”

This quote simply means that the things which we do not know and understand, it is useless to run after them. But at the time of sadhna, this does not happen at all. At that time, our mental condition is such that the almighty has given the responsibility of the entire universe on our shoulders and this state persists till the time we do not get up from sadhna. We all know that such things happen but we sparingly try to find out the reason behind this phenomenon. In fact, it is subject to be pondered over daily rather than occasionally. Sadhna or chanting of mantra means that the particular time belongs to us and our Isht. But if we are still thinking about worldly things at that time, then it is better not to sit in the aasan at all because just by chanting or by closing eyes, God does not get pleased. The reason for such a state in sadhna is our mind because:

“Those who are knowledgeable, they know the fact that mind is neither a reliable friend nor an obedient servant. 
We can direct it but never control it.”

But those who are accomplished ascetics, their mind does not play such games with them because they are well aware of the fact that in reality, there is no such thing like the mind, it is merely an illusion and it is confirmed from a scientific point of view as no doctor tells you about a body part called “mind”. That is because such a thing does not exist.

We have named a particular type of energy/vibration emitted from our brain as the mind, over which we do not have any control as energy remains uncontrolled till the time we do not understand its utilization. For controlling energy which is continuously created inside us, first of all we have to understand the roots from which this energy is created.

Our body contains three characteristics of Sat, Raj and Tam in one proportion or the other and our mind/orientation of thoughts and work capability is always influenced by these three qualities. The time when there is predominance of a particular quality, at that time, energy emitted from the brain (which we have addressed as the mind) will move towards that particular characteristic. This happens due to the law of nature which says that energy always flow in the direction of increasing density of Shakti (power). This is precisely the reason why we do not do exactly the same type or quality of work/action all the time. Sometimes we may act saintly and sometimes quite the opposite.

In order to keep the mind and thought stable in sadhna, thousands of ways have been provided on the path to Meditation and Yoga. But above all those procedures, if there is any power/activity which takes us from darkness to light, it is none but the self because nobody knows you better than you yourself. It does not make any difference as to which rules have been followed by you to concentrate your thoughts because all your activities become useless till the time your eyes do not become stable. In order to stabilize the eyes, it is not necessary to tire yourself.

We all know that controlling the mind or thoughts is a very difficult task. But we should also understand the fact that consciousness never gets polluted and it is one of the vibrations of our soul which needs to be shown the right direction, and we can show our consciousness the right direction only when we know right path. In Hath Yoga, six different types of procedures have been provided for this, out of which Tratak is considered to be the best because it increases our spiritual peace along with mental peace.

chakra

 

In our brain, thoughts come and go constantly in the form of vibrations but when we practice tratak, we can actually recover 70% of the energy lost in this inflow and outflow of thoughts. This is because in tratak we try to stabilize our eyes rather than catching our thoughts. When you try this, you will realize that as compared to controlling thoughts, stabilizing eye balls is much easier and much more effective too. And when you perform this, not only once but thousands of times, your eye-balls get stabilized – your mind comes under your control. We actually come to know about it by seeing the dot present in the middle of Shakti Chakra get stabilized.

Tratak can be done in two ways-

1)   External Tratak

2)   Internal Tratak

In external Tratak, you have to focus your attention on the dot present in the middle of the Shakti Chakra. Through this you learn the art of controlling your thoughts at the spiritual level and at the materialistic level and your eyes attain the capability to hypnotize anyone.

In internal Tratak, you have to focus your attention on the Aagya Chakra and for that you have to focus your eye balls in the middle of the two eyebrows. You may experience a little bit of pain in the initial days. But after successfully accomplishing this tratak, on one hand your Aagya Chakra starts vibrating and on the other hand, you attain the eligibility to do Kaal Vikhandan sadhna.

On the physical plane, regular practice of tratak increases your capability of thinking and comprehension multiple times and destroys negative energy present inside you. You must always keep in mind that whenever you practice tratak, it should be done in a peaceful environment. That’s why morning time is considered ideal for tratak.

Lastly, the Mantra given below will help you in quickly attaining success with the Tratak procedure. But the mantra will work with competence only when you regularly practice this procedure for 10-15 minutes. You just have to sit peacefully and do the jaap of the below mantra for 10-15 minutes and it will activate Sushumana and make the attainment of the goal very easy.

OM KLEEM KLEEM KREEM KREEM HUM HUM PHAT

 

==================================

योग शास्त्र के अनुसार हमारे शरीर में नाड़ियों के गुच्छों के रूप में सात चक्र स्थापित हैं जिन्हें सुप्त अवस्था में रहने देना है या जागृत करके उनसे मिलने वाले लाभों से खुद के जीवन को संवारना है यह स्वत: हम पर निर्भर करता है….यह बात हर उस आम व्यक्ति पर लागू होती है जिसे साधनाओं से कोई लेना देना नहीं होता पर जो व्यक्ति अपने जीवन में साधनाएं करते हैं वो जानते हैं की इन चक्रों की उन्के साधनात्मक जीवन में क्या महत्ता है|

वैसे तो हर चक्र का अपना एक विशेष महत्व है पर हमारे भूमध्य में स्थित आज्ञाचक्र का हमारे साधनात्मक जीवन से बड़ा लेनादेना है और वो इसलिए क्योंकि यह चक्र हमारी आँखों के बिलकुल मध्य में स्थित है जहाँ तीसरा नेत्र स्थापित होता है और साधना में आप कितनी तल्लीनता से बैठे हैं या आपका ध्यान कितना भटक रहा है ये सारा खेल यहीं से शुरू होता है ….पर यदि आपको याद हो तो मन से संबंधित लेख में हमने एक बहुत गुढ़ तथ्य को समझा था की –

“ यदि भ्रम से बचना है तो भ्रम से होने वाले फायदों और नुक्सान को तिलांजली दे दो “

इस कथन का सरल सा अर्थ यह है की वो चीज़ जिसे आप जानते हो की नहीं है उसके पीछे भागना व्यर्थ है …..पर साधना के समय ऐसा नहीं हो पाता…..उस समय तो हमारी मानसिक स्थिति ऐसी होती है जैसे ईश्वर ने समस्त ब्रह्मांड का दायितत्व हमारे कंधो पर ड़ाल दिया हो और यह स्थिति तब तक ज्यों की त्यों रहती है जब तक हम साधना से उठ नहीं जाते, ऐसा होता है यह हम सब जानते हैं पर क्यों होता है इस पर यदा-कदा ही विचार करते हैं| पर असल में यह कभी-कभी नहीं बल्कि रोज विचारने वाला विषय है क्योंकि साधना या मंत्र जाप करने का अर्थ होता है की वो समय हमारा और हमारे इष्ट का है पर उस समय में भी अगर हम ज़माने भर की बातें सोच रहे हैं तो उससे अच्छा है हम आसन पर बैठे ही नहीं क्योंकि मात्र माला चला लेने से, या आँखें मूंद कर बैठ जाने से कोई भगवान कभी खुश नहीं होते ……और साधना में हमारी ऐसी दशा का कारण होता है हमारा मन ……क्योंकि

“ जो ज्ञानी होते है वो जानते हैं की मन ना तो भरोसेमंद मित्र है और ना ही आज्ञाकारी सेवक, हम इसे निर्देशित तो कर सकते हैं पर नियंत्रित कदापि नहीं “

…..पर जो सिद्ध सन्यासी होते हैं उनके साथ उनका मन ऐसा खेल कभी नहीं खेलता क्योंकि वो इस तथ्य से पूर्णतः परिचित होते हैं की असल में मन जैसी कोई चीज होती ही नहीं….यह सिर्फ एक भ्रम है, छलावा है और अगर विज्ञान की दृष्टि से इस बात की पुष्टि की जाए तो आपको चिकित्सक कभी किसी ऐसे शारीरिक अंग के बारे में नहीं बताएंगे जिसका नाम “ मन “ हो क्योंकि ऐसा कुछ होता ही नहीं है|

हमारे मस्तिष्क से निकलने वाली एक विशेष प्रकार की ऊर्जा या यूँ कहें की तरंग को हमने मन का नाम दे दिया है जिस पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं हैं क्योंकि ऊर्जा हमेशा तब तक अनियंत्रित रहती है जब तक आपको उसका सदुपयोग समझ में ना आ जाये| हमारे अंदर निरंतर बनने वाली ऊर्जा को नियंत्रण में करने के लिए पहले हमें इसके मूल को समझना पड़ेगा जहाँ से इस ऊर्जा का निर्माण होता है|

……हम शरीर में सत, रज, और तम तीनों गुण कम या अधिक अनुपात में मौजूद हैं और हमारे मन या विचारों की गति और कार्य करने की क्षमता इन तीनों गुणों से हमेशा प्रभावित होती है और जिस समय आपके अंदर जिस गुण की प्रधानता होगी उस समय मस्तिष्क से निकलने वाली ऊर्जा, जिसे हमने मन का संबोधन दिया है, उसी तरफ जायेगी क्योंकि यह एक प्राकृतिक नियम है की ऊर्जा का प्रवाह हमेशा शक्ति के घनत्व की तरफ ही होता है और यही कारण है की हम हमेशा एक जैसे काम कभी नहीं करते…..कभी हम साधू होते है तो कभी…..

साधना में मन या अपने विचारों को स्थिर रखने के लिए ध्यान मार्ग, योग मार्ग इत्यादि में हजारों तरीके बताए गए हैं पर उन सब विधियों से उपर अगर कोई शक्ति या क्रिया है जो आपको अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर करती सकती है…तो वो हैं आप खुद हो क्योंकि आपको आपसे ज्यादा अच्छे से ओर कोई नहीं जानता| इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता की आपने आज तक अपने विचारों को एकाग्र करने के लिए किन-किन नियमों का पालन किया है क्योंकि आपके द्वारा किये गए सारे क्रिया कलाप व्यर्थ हो जाते हैं जब तक आपकी आँखे स्थिर नहीं हो जाती ओर आँखों को स्थिर करने के लिए आपको खुद को थकाने की कोई जरूरत नहीं है….यदि किसी चीज़ की जरूरत है तो वो है खुद को दोष मुक्त करने की….

हम सब यह तो जानते हैं की मन या विचारों को नियंत्रित करना अत्यंत दुष्कर है….पर हमें यह तथ्य भी पता होना चाहिए की चेतना कभी मलीन या दूषित नहीं होती, ये तो हमारी आत्मा की एक तरंग है जिसे हमें बस सही दिशा दिखानी होती है और इस चेतना को हम सही दिशा तभी दिखा पायेंगे जब हमें इसका सही मार्ग पता हो| हठयोग में ६ तरह की अलग – अलग क्रियाएँ बताई गयी हैं जिनमें से त्राटक को श्रेष्ठ माना गया है क्योंकि यह हमारी मानसिक शान्ति के साथ-साथ आध्यात्मिक शक्ति को भी बढ़ाता है|

हमारे मस्तिष्क में तरंगों के रूप में विचार हमेशा आते-जाते रहते हैं पर जब हम त्राटक का अभ्यास करते हैं तो इन विचारों के आने जाने से शतिग्र्स्