हरी ॐ , 

Image result for KETU IMAGE kumbakonam

केतु एक क्रूर स्वभाव का छाया ग्रह है, जिसका मानव जीवन पर अत्याधिक प्रभाव रहता है। यह तर्क, बुद्धि, ज्ञान, वैराग्य और अन्य मानसिक गुणों का कारक है। केतु को कष्टकारी और मंगलकारी दोनों ही माना जाता है। क्योंकि एक ओर जहां केतु मनष्य के जीवन में दुख और हानि का कारक बनता है। वहीं दूसरी ओर  जनम  में अच्छे  केतु के प्रभाव से मनुष्य जीवन में बहुत उन्नति करता है। 
Image result for GANESHJI  images
2017 में केतु 18 अगस्त शुक्रवार तक कुंभ राशि में स्थित रहेगा। इसके बाद केतु संचरण करते हुए मकर राशि में लौटेगा। इस वर्ष केतु के गोचर और विभिन्न राशियों पर पड़ने वाले उसके आम प्रभाव को जानने के लिए पढ़िये भैयाजी का  यह खास लेख।

मेष

केतु आपके ग्यारहवें भाव में गोचर कर रहा है। यह भाव आय और सफलताओं से संबंधित है। केतु के ग्यारहवें भाव में स्थित होने से सामाजिक मान प्रतिष्ठा बढ़ेगी। केतु के शुभ प्रभाव से बौद्धिक ज्ञान और धन में वृद्धि देखने को मिलेगी। यदि कुंडली में केतु का प्रभाव अधिक है तो कामुक विचारों में बढ़ोतरी होगी। इसकी वजह से नैतिक पतन हो सकता है और दुराचार की प्रवृत्ति बढ़ेगी।

सितंबर के बाद केतु आपके दसवें भाव में संचरण करेगा, जो प्रोफेशन से जुड़ा है। इस गोचर के प्रभाव से बौद्धिक ज्ञान में और बढ़ोतरी होगी। नौकरी से ध्यान भटक सकता है। इसलिए अपने प्रोफेशनल स्टेट्स को अच्छा बनाए रखने के लिए कठिन परिश्रम करने की ज़रुरत होगी। केतु के गोचर के प्रभाव से पारिवारिक जीवन में अस्थिरता बनी रहेगी।

वृष

केतु आपके दसवें भाव में गोचर कर रहा है। चूंकि दसवां भाव प्रोफेशन से संंबंधित है इसलिए केतु के प्रभाव से नौकरी और काम में मन नहीं लगेगा। इसकी बजाय आपका झुकाव आध्यात्मिक और दर्शन शास्त्र का ज्ञान प्राप्त करने और उससे संबंधित पढ़ाई की ओर होगा। इसके अलावा पारिवारिक जीवन में भी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। आप परिजनों के फैसलों से सहमत नहीं होंगे।

सितंबर में केतु आपके नौंवे भाव में गोचर करेगा। यह भाव धर्म और विदेश यात्राओं से संबंधित है। केतु के नौंवे भाव में गोचर करने की वजह से आपकी निर्णयन क्षमता प्रभावित होगी। इसके फलस्वरूप अच्छे और बुरे की समझ नहीं होने से आप कुछ अनैतिक कार्य करने की ओर बढ़ सकते हैं। इसलिए कोई भी निर्णय सोच-समझकर लें। तीर्थ यात्रा पर जाने के योग बन रहे हैं। प्राचीन मान्यताओं और विचारधारा को महत्व देंगे।

मिथुन

केतु का आपके नौंवे भाव में संचरण करना पिता के स्वास्थ को लेकर अशुभ संकेत दे रहा है। आप धार्मिक विचारों को ज्यादा महत्व देंगे। इस सिलसिले में आप किसी धार्मिक स्थल पर जा सकते हैं। भाई-बहन की सेहत भी खराब रह सकती है।

सितंबर में केतु आपके आठवें घर में गोचर करेगा। चूंकि यह भाव रहस्य और गहन विज्ञान से संबंधित है। इसलिए इस गोचर के फलस्वरूप आध्यात्मिकता और जादू-टोने जैसी विद्या के प्रति आपका झुकाव बढ़ेगा। कार्य क्षेत्र में पहचान मिलेगी और आर्थिक लाभ होगा। केतु के आठवें भाव में होने से उत्तेजना बढ़ेगी और आवेश में आकर आप कुछ गलत करके कानूनी विवाद में फंस सकते हैं। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है। खासकर बवासीर जैसे रोग से परेशान हो सकती है। चोटिल होने की भी प्रबल संभावना है। इसलिए वाहन आदि संभलकर चलाएं।

Image result for ketu graha images

कर्क

केतु आपके आठवें भाव में गोचर कर रहा है। चूंकि आठवें घर का संबंध रहस्यों से है इसलिए साइंस, ज्योतिष विज्ञान और रहस्यमयी विज्ञान जैसे विषयों में आपकी रूचि बढ़ सकती है। शोध छात्र और अनुसंधान से जुड़े जातकों के लिए यह समय अनुकूल है। इस दौरान आप शोध के जरिए नई खोज और आविष्कारिक कार्य करेंगे।

सितंबर में केतु आपके सातवें भाव में गोचर करेगा। यह भाव बिज़नेस पार्टनर और जीवन साथी से जुड़ा है। केतु के सातवें भाव में होने से जीवन साथी की सेहत पर असर पड़ सकता है। पति-पत्नी में विवाद की वजह से भी तनाव पैदा होगा। वहीं बिज़नेस पार्टनर के साथ भी मतभेद होंगे। इसलिए इन सभी विवादित मामलों को धैर्य और शांति के साथ सुलझाने की कोशिश करें।

सिंह

केतु के सातवें भाव में स्थित होने से बिज़नेस पार्टनर और जीवन साथी के साथ असहमति का भाव विवाद की स्थिति पैदा कर सकता है। वैवाहिक जीवन में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे।

सितंबर के बाद केतु आपके छठवें भाव में गोचर करेगा। चूंकि यह भाव शत्रु और सेवकों से संबंधित है। इसलिए आप विरोधियों पर हावी रहेंगे। वे छात्र जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें अच्छे नतीजे मिलेंगे। सेहत का ध्यान रखें क्योंकि आप किसी बीमारी की चपेट में आ सकते हैं।

कन्या

केतु आपके छठवें भाव में गोचर कर रहा है। यह घर शत्रु और सेवकों से संबंधित होता है। केतु की शुभ दशा की बदौलत कानूनी और अदालती विवादों में आपकी जीत होगी। सभी तरह के विवाद और झगड़ों से छुटकारा मिलेगा। वे छात्र जो प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं नतीजे उनके पक्ष में होंगे लेकिन योजनागत तरीके और रणनीति के साथ पढ़ाई करनी होगी। गुप्त रोगों से पीड़ित हो सकते हैं।

सितंबर में केतु आपके पांचवें भाव में गोचर करेगा। इस दौरान बच्चों की सेहत खराब हो सकती है। आप विदेशी भाषा, धार्मिक ग्रंथ और रहस्यमयी विज्ञान जैसे विषयों को लेकर समझ विकसित करने की कोशिश करेंगे। दांपत्य जीवन में संभलकर चलने की ज़रूरत है। क्योंकि पति और पत्नी में विवाद और मतभेद हो सकते हैं।

Related image

तुला

केतु आपके पांचवें भाव में गोचर कर रहा है। यह घर शिक्षा और बच्चों से संबंधित है। आपकी राशि में केतु की वर्तमान स्थिति से प्रेम संबंध प्रभावित होंगे। प्रेमी या प्रेमिका के साथ विवाद बढ़ने की स्थिति में रिश्ता टूटने की कगार पर पहुंच सकता है। आपके बच्चों की सेहत खराब रह सकती है। रहस्यमयी विज्ञान जैसे विषयों के बारे में पढ़ने की इच्छा जाग्रत होगी। आध्यात्मिक चिंतन से शांति मिलेगी।

सितंबर में केतु चौथे भाव में संचरण करेगा। यह भाव माता, स्वास्थ और सुख-सुविधाओं आदि से जुड़ा है। केतु के चौथे भाव में गोचर करने से पारिवारिक रिश्तों में तनाव पैदा होगा। आप किसी नई जगह पर शिफ्ट हो सकते हैं। नियमित रूप से योग और प्राणायाम करें।

वृश्च